Arvind kejriwal in punjab

पंजाब में AAP सरकार बनी, तो किसानों को नहीं करने देंगे खुदकुशी: केजरीवाल

0Shares

पंजाब दौरे पर आए आम आदमी पार्टी (AAP) के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज मानसा में किसानों के साथ वार्ता के दौरान कई घोषणाएं दी। ‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पंजाब में हमारी सरकार बनती है, तो हम एक अप्रैल के बाद किसी भी किसान को खुदकुशी नहीं करने देंगे। आजादी के 70 साल हो गए, लेकिन इन पार्टियों व नेताओं की नीयत खराब थी। ऐसा नहीं है कि यह हो नहीं सकता। हमने दिल्ली में सरकारी स्कूल, अस्पताल, बिजली, पानी और सड़कें ठीक करके दिखाया है, अब पंजाब में भी करके दिखाएंगे। ‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री चन्नी ने बेमौसम बारिश और गुलाबी सुंडी से बर्बाद फसलों का मुआवजा देने का वादा किए थे, लेकिन नही दिए। मेरी सभी किसानों से हाथ जोड़कर विनती है कि अगर मुआवजा नहीं मिलता है, तो आप खुदकुशी मत करना। मार्च में हमारी सरकार बनेगी, तो हम 30 अप्रैल तक मुआवजा आपके खाते में डाल देंगे। अगर आम आदमी पार्टी को पंजाब में मौका मिलता है, तो खेती को इज्जत और मुनाफे का धंधा बनाएंगे।

टिकरी बॉर्डर पर महिलाओं को कुचलने वाले को गिरफ्तार कर कड़ी सजा दे पंजाब सरकार- अरविंद केजरीवाल

पंजाब के दौरे पर आए आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज मानसा में किसानों के साथ बातचीत की। इस दौरान ‘आप’ पंजाब प्रभारी एवं सांसद भगवंत मान और सह प्रभारी एवं दिल्ली से विधायक राघव चड्ढा समेत कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे। इस दौरान ‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज सुबह जब मैं पंजाब पहुंचा, तो बहुत ही दुख की खबर सुनने को मिली कि टिकरी बॉर्डर पर किसानों के साथ संघर्ष कर रहीं तीन महिलाओं को एक ट्रक ने कुचल दिया और मौके पर ही उन तीनों महिलाओं की मौत हो गई। मैं उन तीनों महिलाओं को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं और भगवान से प्रर्थना करता हूं कि उनकी आत्मा को अपने चरणों में स्थान दें और उनके परिवार वालों को इतना बड़ा दुख सहने की शक्ति प्रदान करें। जो दोषी लोग हैं, उनको सरकार गिरफ्तार कर कड़ी से कड़ी सजा दे। 

किसानों की खुदकुशी पर हमें तकलीफ होती है, लेकिन इन पार्टियों और नेताओं को नहीं होती- केजरीवाल

‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पूरे देश में कहीं से भी अगर खबर आती है कि किसान ने खुदकुशी कर ली है, तो बहुत तकलीफ होती है। सभी आम जनता को तकलीफ होती है। चाहे पंजाब हो, चाहे हरियाणा हो, चाहे मध्यप्रदेश हो, चाहे महाराष्ट्र हो, कहीं पर भी अगर गरीब किसान आत्महत्या करता है, तो बड़ी तकलीफ होती है। आज अगर आजादी के 70 साल बाद भी हमारे किसानों को खुदकुशी करनी पड़ रही है, तो यह शर्म की बात है। ज्यादा दुख की बात यह है कि किसानों की खुदकुशी की तकलीफ मेरे को होती है, आपको होती है, लेकिन इन नेताओं को तकलीफ नहीं होती है। इन पार्टियों को तकलीफ नहीं होती है। चाहे जितने भी किसान मर जाएं, चाहे जितने भी किसान खुदकुशी कर लें। मुझे लगता है कि पिछले एक साल से सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर किसानों का दुनिया का सबसे बड़ा धरना चल रहा है। दुनिया के इतिहास का सबसे बड़ा धरना चल रहा है। 11 महीने से उपर हो गए और किसान बॉर्डर पर बैठे हुए हैं। अब तक 600 से अधिक किसान अपनी सहादत दे चुके हैं। लेकिन इन पार्टियों और इन नेताओं को कोई फर्क नहीं पड़ता है। 

हमने दिल्ली में सरकारी स्कूल, अस्पताल, बिजली, पानी और सड़कें ठीक करके दिखाया है, अब पंजाब में भी करके दिखाएंगे- केजरीवाल

इस दौरान ‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल ने एलान करते हुए कहा कि मैं पूरी जिम्मेदारी के साथ आम आदमी पार्टी की ओर से आपको यह विश्वास दिलाता हूं कि फरवरी महीने में विधानसभा चुनाव है और मार्च के महीने में नतीजे आ जाएंगे। एक अप्रैल के बाद से हम लोग पंजाब के अंदर किसी किसान को खुदकुशी नहीं करने देंगे। यह हमारी जिम्मेदारी है। इसके लिए जो कुछ करना पड़ेगा, हम लोग करेंगे। लेकिन अब बहुत हो गया। 70 साल हो गए। इसका मतलब यह है कि इन पार्टियों की नीयत खराब थी। ऐसा नहीं कि यह हो नहीं सकता। ये पहले कहा करते थे कि सरकारी स्कूल ठीक नहीं हो सकते। हमने दिल्ली में करके दिखा दिया। पहले कहते थे कि सरकारी अस्पताल ठीक नहीं हो सकते। हमने दिल्ली में करके दिखा दिया। मैंने दिल्ली में जब पहला चुनाव लड़ा और मैं कहा, मैं बिजली फ्री कर दूंगा, तो सभी पार्टी वाले मेरा मजाक उड़ाते थे। दिल्ली में यह भी करके दिखाया। आज मैं आपसे वादा करके जा रहा हूं कि एक अप्रैल से पंजाब के अंदर कोई किसान खुदकुशी नहीं करेगा। किसी किसान को हम खुदकुशी नहीं करने देंगे। 

मुख्मंत्री चन्नी ने बेमौसम बारिश और गुलाबी सुंडी से बर्बाद हुई फसलों का मुआवजा देने का वादा किए थे, लेकिन नही दिए- केजरीवाल

‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल ने आगे कहा कि आज मैं पंजाब इसलिए आया हूं, क्योंकि दिल्ली में जैसे बेमौसम बारिश की वजह से फसलें बर्बाद हो गईं, उसी तरह पंजाब के अंदर भी बेमौसम बारिश की वजह से फसलें बर्बाद हो गई हैं। पंजाब के अंदर भी गुलाबी सुंडी की वजह से फसलें बर्बाद हो गई हैं और सरकार उस पर कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। ऐसा मैने अखबारों में पढ़ा। मैंने अखबार में यह भी पढ़ा कि चंन्नी साहब नए-नए मुख्यमंत्री बने हैं। चन्नी साहब एक गांव में गए, जहां पर गुलाबी सुंडी की वजह से फसल बर्बाद हुई थी और वहां पर किसान हरप्रीत को गले लगा लिए। चन्नी साहब बोले कि जिन-जिन किसानों की फसल बर्बाद हुई है, उनको मुआवजा मिलेगा। गांव के सभी लोग खुश हो गए, क्योंकि उनको यह लगा कि अब एक अच्छा मुख्यमंत्री आया है। अभी एक सप्ताह पहले अखबार में खबर छपी कि किसान हरप्रीत कह रहा है कि मुख्यमंत्री ने मुझे गले तो लगा लिया, सारी बसों के पीछे गले लगाते हुए मेरी फोटो भी चिपका दी, लेकिन एक महीना हो गया है और अभी तक मुआवजा नहीं मिला है। जिसको गले लगाया, उसको भी मुआवजा नहीं दिया। जिस गांव के लोगों को गले लगाया, उस गांव के लोगों को भी मुआवजा नहीं दिया। मेरे पास कई लोग आकर कहते हैं कि वे आम आदमी की नकल कर रहे हैं। मैं उनसे कहना चहता हूं कि चन्नी साहब, आम आदमी की नकल करना बड़ा आसान है, लेकिन अमल करना बड़ा मुश्किल है। वादे करने बड़े आसान है, वादे निभाने बड़ा मुश्किल है। हम आम आदमी पार्टी वाले, जो वादे करते हैं, वो वादे पूरे भी करते हैं। मैं पंजाब की जनता से भी कहना चाहता हूं कि जब ओरिजनल सामने खड़ा है, तो फिर डुप्लीकेट को वोट देने से क्या फायदा। 

दिल्ली में हम किसानों को बर्बाद फसल की लागत के अनुसार मुआवजा देते हैं- अरविंद केजरीवाल

‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल ने पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी से अपील करते हुए कहा कि किसानों जत्थेबंदियों के साथ बैठ कर आप यह हिसाब लगाओ कि बेमौसम बारिश से जो धान की फसल बर्बाद हुई है, उसका और गुलाबी सुंडी की वजह से जो फसलें बर्बाद हुई हैं, उसकी कितनी लागत थी और कितना नुकसान हुआ है। जितनी लागत थी, कम से कम उतना तो भरपाई करो। यह 8 हजार रुपए कहां से आ गया। दिल्ली में हम दे रहे हैं। दिल्ली में फरवरी 2015 में हमारी सरकार बनी। अप्रैल के महीने में किसान हमारे पास आए और बोले कि हमारी फसल बर्बाद हो गई। मैं किसानों के साथ उनके गांव गया। गांव के अंदर ही सारे किसानों की बैठक बुलाई। वहीं पर उन्होंने सारी गणना करके बताया कि 18 हजार रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से हमारा नुकसान हुआ है। वहीं, पर हमने 20 हजार रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से मुआवजा देने का एलान कर दिया और तीन महीने के अंदर सबके खाते में पैसा चला गया। उसके बाद से हमने पॉलिसी बना दी। तब से लेकर आज तक पिछले सात साल में दिल्ली के अंदर जितनी बार किसानों की फसलें बर्बाद हुई है, हमने 20 हजार रुपए एकड़ के हिसाब से मुआवजा दिया है। 

पंजाब सरकार से अपील, फसल की जो लागत है, कम से कम वह किसानों को दिया जाए- केजरीवाल

‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मैं चन्नी साहब से अपील करना चाहता हूं कि आप भी फसल की जो लागत है, कम से कम उस लागत को किसानों को दें। मैं पंजाब के किसानों से कहना चाहता हूं कि अगर चन्नी साहब आपको अपकी फसल की लागत नहीं देते हैं, तो मेरी आप सभी से हाथ जोड़कर विनती है कि खुदकुशी मत करो। हमें भी आपकी खुदकुशी की तकलीफ होती है। आप हमें अपना बेटा और छोटा भाई मान लो। मैं समझता हूं कि किसान अगर फसल न लगाएं, तब भी चल जाता है, लेकिन अगर पैसा खर्च करके फसल लगाएं और फसल बर्बाद हो जाए, तो किसान कहीं के नहीं रह जाते हैं। इसलिए किसान आत्महत्या करने को मजबूर हो जाता है। मैं सभी पंजाब के किसानों से अपील करता हूं कि आप आत्महत्या मत करना। मार्च में हमारी सरकार बनेगी। अगर चन्नी साहब पूरा मुआवजा नहीं दिया, तो 30 अप्रैल तक आपके खाते में पूरा मुआवजा चला जाएगा।  इसके अलावा, जिन मजदूरों ने खेत में काम किया और फसल बर्बाद हो गई, तो जमींदार उन मजदूरों को भी पैसा नहीं दे पाता है। मैं उनसे भी कहना चाहता हूं कि आप भी चिंता मत करो। आपको भी उचित मुआवजा दिया जाएगा। हम मार्च के महीने में किसान जत्थेबंदियों के साथ बैठेंगे, जितनी आपकी लागत है, उसका मुआवजा हम 30 अप्रैल तक दे देंगे। अगर हम दिल्ली वालों के साथ मिलकर दिल्ली के सरकारी स्कूल, सरकारी अस्पताल बदल सकते हैं, दिल्ली की बिजली, पानी और सड़कें बदल सकते हैं, तो पंजाब के लोगों के साथ मिलकर पंजाब की खेती भी बदल सकते हैं। आपको यकीन दिलाना चाहता हूं कि जब पंजाब के अंदर मौका मिलेगा, तो खेती को इज्जत का धंधा बनाएंगे। खेती का मुनाफे का धंधा बनाएंगे। इसको लेकर हम लोग बहुत बड़ी योजना बना रहे हैं। इस दौरान किसानों ने ‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल के समक्ष कई सुझाव भी रखे। जिनमें से कई सुझाव बहुत ही अच्छे थे और ‘आप’ संयोजक ने सरकार बनने के बाद उन्हें पंजाब में लागू करने का भरोसा दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *