Nitish-Kumar-gave-place-to-tainted-in-the-cabinet

नैतिकता की दुहाई देने वाले नीतीश कुमार भूले नैतिकता, मंत्रिमंडल में दी दागियों को जगह।

0Shares

राजनैतिक शुचिता और नैतिकता के नाम पर कांग्रेस और RJD के साथ महागठबंधन तोड़ बीजेपी का दामन थाम छठी बार मुख्यमंत्री बने नीतीश कुमार ने रविवार को मंत्रिमंडल का विस्तार किया। नीतीश कुमार ने मंत्रिमंडल का गठन करते हुए 26 नए मंत्रियों को जगह दी। नीतीश कुमार ने जिस राजनैतिक शुचिता और नैतिकता की दुहाई देकर महागठबंधन तोड़ नई सरकार का गठन किया, उसी सरकार के गठन और मंत्रिमंडल के विस्तार के साथ ही नीतीश कुमार की राजनैतिक शुचिता और नैतिकता के पैमाने सब ध्वस्त हो गए। नीतीश कुमार ने गठबंधन की सरकार को छोड़ने के लिए जिस परिवारवाद, मौकापरस्ती, दागी नेता का हवाला दिया था नई सरकार में परिवारवाद, मौकापरस्ती, दागी नेता वो सबकुछ शामिल है। जिस मामले के तेजश्वी यादव पर विवाद शुरू हुआ उसी धरा के तहत नए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर भी मामला दर्ज है। परिवारवाद को बढ़ावा देते हुए नीतीश सरकार में रामविलास पासवान के छोट भाई नए मंत्री पशुपति पशुपतिनाथ पारस को शामिल किया गया है जिनके पास फिलहाल किसी भी सदन की सदस्यता नहीं है।





नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल में करीब आधे दागी नेता शामिल है। दागी मंत्रियों में से करीब आधे मंत्रियों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। नीतीश सरकार में पर्यटन विभाग की जिम्मेदारी पाने वाले बीजेपी विधायक प्रमोद कुमार पर 7, विजय सिन्हा (श्रम संसाधन विभाग) पर 2, संतोष निराला (परिवहन विभाग) पर 2, राणा रणधीर (सहकारिता विभाग) पर 4, खुर्शीद उर्फ फिरोज (अल्पसंख्यक कल्याण, गन्ना उद्योग) पर 5, रमेश ऋषिदेव (अनुसूचित जनजाति, कल्याण विभाग) पर 1 आपराधिक मामले दर्ज है, इन आपराधिक मामलों में कुछ मामले गंभीर आपराधिक मामले के तहत दर्ज है। हालाँकि आपराधिक मामलों में दर्ज मंत्री के नामों की लिस्ट अभी लम्बी है। ये सिर्फ गंभीर आपराधिक मामलों में दर्ज मंत्री के नामों की सूची है। खबर के मुताबिक 29 सदसस्यों की मंत्री मंडल में शामिल करीब 13 मंत्री पर आपराधिक मामले दर्ज हैं जबकि कुछ पर गंभीर आपराधिक मामले भी दर्ज है।





महागठबंधन (JDU + कांग्रेस + RJD) के साथ मिलकर भाजपा के खिलाफ चुनाव लड़कर महागठबंधन ने बिहार विधानसभा चुनाव में बीजेपी को शिकस्त दी थी। हाल के दिनों में JDU के नेता और बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजश्वी यादव पर लगे आरोपों के चलते नीतीश कुमार ने नैतिकता की दुहाई देकर महागठबंध तोड़ RJD और कांग्रेस से किनारा कर गठबंधन तोडने के महज कुछ घंटों के अंदर बीजेपी के साथ नई सरकार बना ली। नई सरकार में JDU के नेता नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री के तौर पर और बीजेपी के नेता सुशील कुमार मोदी ने उपमुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ग्रहण किया। महागठबंध तोड़कर बीजेपी के साथ समझौता कर नई सरकार बनाने के बाद खुद की पार्टी और सहयोगी पार्टी में दरार बढ़ती नजर आ रही है। खबर के मुताबिक विवादों में घिरे नीतीश कुमार अभी कोई भी विवाद नहीं चाहते जिसके चलते नाराज नेताओं को मनाने के लिए मंत्रिमंडल में और मंत्रियों को शामिल किया जा सकता है।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *